तो यकीन करना ही छोड़ दो….😊👍

Standard

उम्र क्या यकीन करें ऐ मेरे दोस्तों,

जरा सी बड़ी नहीं की अपने तेवर बदल लेती हैं,

अपनी हसरतों की दास्तान क्या सुनाऐं ऐ मेरे दोस्तों

जरा सी जवान क्या हुई अपने जेवर बदल लेती हैं,
ये मोहब्बत अधुरी थी अधुरी हैं और ही रहेगी ऐ मेरे दोस्तों,

जरा सी कसमें क्या खाई साली अपनी औकात दिखा देती हैं,

ईमानदारी से जिऐं अबतक ऐ मेरे दोस्तों,

जरा सी बईमानी की सोच मुझे रास्ता लगा देती हैं,

जिऐ तो जिऐ कैसे ऐ मेरे दोस्तों,

जरा हैंडसम क्या हुऐ पुरी दुनिया अपना मुँह बना लेती हैं 😇😇😀😀😊👍

इस जिन्दगी क्या भरोसा करूँ ऐ मेरे प्यारें दोस्तों,

एक झटके में ही मौत को महबूूबा बना देती हैं,

यकीन नहीं होता न ऐ मेरे दोस्तों,

तो यकीन करना ही छोड़ दो…..!!!!!😊👍

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s